Rss

  • stumble
  • youtube
  • linkedin

वो गणतंत्र था, आज भ्रष्ट्रतंत्र है !

 freedom.jpg

एक और गणतंत्र

फिर से वही तिरंगा

कुछ भाषण और कुछ गीत

एक दिन का जोश और उमंग

अधूरे वादे और क्षूठे अहंकार का प्रदर्शन

सड़को पर पिछलग्गू भीड़ का जमावड़ा

सफ़ेद चादरों में लूटेरे मन की बर्बर शालीनता

बदबूदार ख़ददरों से  नैतिकता की ढोंगी महक

मंडी में बिकता देश का धर्म और ईमान

पैरो तले कुचलता देश का सम्मान

1950 कल था, आज 2014  है

 वो गणतंत्र था, आज भ्रष्ट्रतंत्र है

 

कल का लोकतंत्र एक सवेरा था

आज एक मरा हुआ लोकतंत्र है

आज एक मरा हुआ लोकतंत्र है…………………

के एम् भाई

cn. – 8756011826

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: