Rss

  • stumble
  • youtube
  • linkedin

Archives for : Poem

Poem- I sent the horses back home #JusticeForAsifa

I SENT THE HORSES BACK HOME

By- Parvathy Mira

Maai,
I sent the horses trotting,
And they found their way back home.

But, I couldn’t.
My legs that you thought were
Swift as those of a deer,
They froze.
Maai, they froze.

But I sent the horses home.

Maai, them monsters,
They had no horns or fangs,
Or deadly long nails.
But they hurt me.
They hurt me bad, Maai.
The purple flowers,
The yellow butterflies,
They stood there helpless.

While I sent the horses back home.

Maai,
Tell Baba that I know,
I know,
I know he tried.
I heard him say out my name,
I heard him repeat it loud.
But,
I was sleepy Maai,
I was tired.
Them monsters,
They hurt me bad.

Strange as it may seem to you,
Maai,
It feels like your warmth now.
It doesn’t hurt anymore.
The blood has dried
And it looks like the purple blossoms
That swayed with me in the meadows.
It doesn’t hurt, Maai.

Maai,
The monsters are still out there..
And there are stories too.
Don’t listen to them Maai,
Gut wrenching and agonizing they are
And a lot you’ve gone through.

Maai,
Lest I forget,
There’s a temple there
Where lives a goddess.
Thank her,
For I think it’s she who helped,

The horses find their way back home.

~ Mi

 

#JusticeForAsifa

Related posts

Stripping Gaza- #Poem #GazaUnderAttack

Stripping Gaza
For Najwan Darwish

A lucky three-year-old
Is Saher* Abu Namous

If Gaza didn’t explode
The world would have
Known nothing of him

Now he is all in reports
One among the victims
Dead like a nipped bud

Saher will not see dawn
It will not dawn on him
Dawn buried in the sun
He is dawn’s stone-face

Thin strip along the sea
Gaza is a handful of sky
A handful of vegetation
A handful of spared life

And a handful of rubble
As tax paid for freedom

Gaza is a refuge of birds
Blinded by metallic fires

Gaza is the state of mind
The enemy longs to tame
The enemy longs to strip
The bone of its feathers
The thin strips of its lives
Marooning along the sea

Gaza has nothing to give
Except Saher Abu’s body
The last child of sacrifice
Paid by a neighbourhood

Bombs from a sunken sky
Fall deafly on a homeland
Mourning over tiny graves
Under freshly planted trees

By Manash Bhattacharjee

Manash is a poet, translator and political science scholar from New Delhi. His first collection, Ghalib’s Tomb and Other Poems, was published recently by The London Magazine. Find out more about the collection here.

*‘Saher’ means dawn.

Related posts

भू-भू हा-हा / लाल्टू #poem

Laltu (b 1957) is scientist, poet, fiction writer and commentator. At present he is Professor at the Center for Computational Natural Sciences and Bioinformatics, IIIT-Hyderabad. He has also participated in several people’s movements includign grassroots science education , literacy, etc.

He has published more then 200 poems and 25 short stories in leading Hindi magazines and has written several opinion editorial articles and reviews. Two collections of his poetry have appeared – “Ek Jheel Thee Barph Ki” and “Dairy mein Teywees October” – as well as a work of fiction – “Ghooghney”. He has also translated literature for children into Hindi, from English and Bengali and has published a book of poems for children – “Bhaiya Zindabad”.

भू-भू हा-हा / लाल्टू
(भूपेन हाजारिका के भाजपा से टिकट लेने के बाद की कवि लाल्टू की रचना। अग्निवेश के औकात पर आने के बाद याद आई।)

भू  

भू

 हा हा

दिन ऐसे आ रहे हैं
सूरज से शिकवा करते भी डर लगता है
किसी को कत्ल होने से बचाने जो चले थे
सिर झुकाये खड़े हैं
दिन ऐसे आ रहे हैं कोयल की आवाज़ सुन टीस
उठती फिर कोई गीत बेसुरा हो चला
दिन ऐसे आ रहे हैं
भू भू हा हा ।
– लाल्टू. 
जनवरी 2004 (पश्यंती- 2004

Related posts

India – Pakistan- Fahmida Riaz on fundamentalism on both sides #Sundayreading

IndiaPakFaces

The progressive Pakistani poet, Fahmida Riaz, recites a poem to an Indian audience comparing the rise of Hindutva in India with the rise of Islamic fundamentalism in Pakistan. Note the delight of the Indian audience and the “delicious” cultural affinity between Indian and Pakistani political discourse. And forgive my attempt at translation. It’s impossible to catch all the nuance, but I tried.

 

Turned out you were just like us.

So it turned out you were just like us!
Where were you hiding all this time, buddy?

That stupidity, that ignorance
we wallowed in for a century –
look, it arrived at your shores too!
Many congratulations to you!

Raising the flag of religion,
I guess now you’ll be setting up Hindu Raj?
You too will commence to muddle everything up
You, too, will ravage your beautiful garden.

You, too, will sit and ponder –
I can tell preparations are afoot –
who is [truly] Hindu, who is not.
I guess you’ll be passing fatwas soon!

Here, too, it will become hard to survive.
Here, too, you will sweat and bleed.
You’ll barely make do joylessly.
You will gasp for air like us.

I used to wonder with such deep sorrow.
And now, I laugh at the idea:
it turned out you were just like us!
We weren’t two nations after all!

To hell with education and learning.
Let’s sing the praises of ignorance.
Don’t look at the potholes in your path:
bring back instead the times of yore!

Practice harder till you master
the skill of always walking backwards.
Let not a single thought of the present
break your focus upon the past!

Repeat the same thing over and over –
over and over, say only this:
How glorious was India in the past!
How sublime was India in days gone by!

Then, dear friends, you will arrive
and get to heaven after all.
Yep. We’ve been there for a while now.
Once you are there,
once you’re in the same hell-hole,
keep in touch and tell us how it goes!

Enhanced by Zemanta

Related posts

Waiting for the Assassin – आततायी की प्रतीक्षा #NOMOre_2014


–––––––––––
अशोक वाजपेयी 

(एक)

सभी कहते हैं कि वह आ रहा है 
उद्धारक, मसीहा, हाथ में जादू की अदृश्य छड़ी लिए हुए 
इस बार रथ पर नहीं, अश्वारूढ़ भी नहीं, 
लोगों के कंधों पर चढ़ कर वह आ रहा है : 
यह कहना मुश्किल है कि वह खुद आ रहा है 
या कि लोग उसे ला रहे हैं। 

हम जो कीचड़ से सने हैं, 
हम जो खून में लथपथ हैं, 
हम जो रास्ता भूल गए हैं, 
हम जो अंधेरे में भटक रहे हैं, 
हम जो डर रहे हैं, 
हम जो ऊब रहे हैं, 
हम जो थक-हार रहे हैं, 
हम जो सब जिम्मेदारी दूसरों पर डाल रहे हैं, 
हम जो अपने पड़ोस से अब घबराते हैं, 
हम जो आंखें बंद किए हैं भय में या प्रार्थना में; 
हम सबसे कहा जा रहा है कि 
उसकी प्रतीक्षा करो : 
वह सबका उद्धार करने, सब कुछ ठीक करने आ रहा है। 

हमें शक है पर हम कह नहीं पा रहे, 
हमें डर है पर हम उसे छुपा रहे हैं, 
हमें आशंका है पर हम उसे बता नहीं रहे हैं! 
हम भी अब अनचाहे 
विवश कर्तव्य की तरह 
प्रतीक्षा कर रहे हैं! 

(दो)

हम किसी और की नहीं 
अपनी प्रतीक्षा कर रहे हैं : 
हमें अपने से दूर गए अरसा हो गया 
और हम अब लौटना चाहते हैं : 
वहीं जहां चाहत और हिम्मत दोनों साथ हैं, 
जहां अकेले पड़ जाने से डर नहीं लगता, 
जहां आततायी की चकाचौंध और धूमधड़ाके से घबराहट नहीं होती, 
जहां अब भी भरोसा है कि ईमानदार शब्द व्यर्थ नहीं जाते, 
जहां सब के छोड़ देने के बाद भी कविता साथ रहेगी, 
वहीं जहां अपनी जगह पर जमे रहने की जिद बनी रहेगी, 
जहां अपनी आवाज और अंत:करण पर भरोसा छीजा नहीं होगा, 
जहां दुस्साहस की बिरादरी में और भी होंगे, 
जहां लौटने पर हमें लगेगा कि हम अपनी घर-परछी, पुरा-पड़ोस में 
वापस आ गए हैं ! 

आततायी आएगा अपने सिपहसालारों के साथ, 
अपने खूंखार इरादों और लुभावने वायदों के साथ, 
अश्लील हंसी और असह्य रौब के साथ.. 
हो सकता है वह हम जैसे हाशियेवालों को नजरअंदाज करे, 
हो सकता है हमें तंग करने के छुपे फरमान जारी करे, 
हो सकता है उसके दलाल उस तक हमारी कारगुजारियों की खबर पहुंचाएं, 
हो सकता है उसे हमें मसलने की फुरसत ही न मिले, 
हो सकता है उसकी दिग्विजय का जुलूस हमारी सड़कों से गुजरे ही न, 
हो सकता है उसकी दिलचस्पी बड़े जानवरों में हो, मक्खी-मच्छर में नहीं। 
पर हमें अपनी ही प्रतीक्षा है, 
उसकी नहीं। 
अगर आएगा तो देखा जाएगा!

Related posts

वो गणतंत्र था, आज भ्रष्ट्रतंत्र है !

 freedom.jpg

एक और गणतंत्र

फिर से वही तिरंगा

कुछ भाषण और कुछ गीत

एक दिन का जोश और उमंग

अधूरे वादे और क्षूठे अहंकार का प्रदर्शन

सड़को पर पिछलग्गू भीड़ का जमावड़ा

सफ़ेद चादरों में लूटेरे मन की बर्बर शालीनता

बदबूदार ख़ददरों से  नैतिकता की ढोंगी महक

मंडी में बिकता देश का धर्म और ईमान

पैरो तले कुचलता देश का सम्मान

1950 कल था, आज 2014  है

 वो गणतंत्र था, आज भ्रष्ट्रतंत्र है

 

कल का लोकतंत्र एक सवेरा था

आज एक मरा हुआ लोकतंत्र है

आज एक मरा हुआ लोकतंत्र है…………………

के एम् भाई

cn. – 8756011826

Related posts

Hukm-E-Adaalat Nahi Toh Hai Zidd-E-Jigar Ab #Sec377

Hukm-E-Adaalat Nahi Toh Hai Zidd-E-Jigar Ab

Utaar Laana Hai Kaws-E-Kazh Zameen Par Ab.

 

Mera Jism Hai Meri Jaan Hai Mera Haq Hai,

Tujhey Kyun Honay Lagi Mujse Zyaada Fikar Ab.

 

Yeh Kis Ki Nigaahein Baithi Hai Merey Shabistaan Mein,

Kya Yeh Tay Karengey Mere Safar Mere Humsafar Ab.

 

Bedil Usoolon Pe Khadey Kaanoon Sey Milega Kya Insaaf,

Buniyaad Yeh Hill Jaaye Ley Aao Aisey Shaayar Ab.

 

Aasmaan Sey Kah Do ‘Saahil’ Woh Aur Ooncha Ho Jaaye,

Dekhogey Satrangi Sapno Kay Parwaaz Ka Too Hunar Ab.

 

– ‘Sahil’

11 Dec 13

Enhanced by Zemanta

Related posts

The #Namo – #Feku Anthem #Satire

http://1.bp.blogspot.com/-u2bnW5zXAFw/Ujfryw4NcaI/AAAAAAAADaE/7diXlQ8MvXE/s320/30.jpg

 

 

मेरी बात सुन कर देखो हँसना नहीं 

आडवाणी जी मिले मुझे रस्ते में

खाई उनकी blessing मैंने सस्ते में

उसने कहा तुझे मैं अपना डिप्टी बनाऊँ

तेरे साथ रह के मैं पीएम इन वेटिंग बन जाऊँ

आडवाणी को बोला मैंने ना बाबा ना

ये घटिया प्लान ले के तू मेरे पास ना आना

मुझे बनना है एक दिन देश का पीएम

उसके लिए चाहे लगे गोली या बम

देश के अंदर मैं अशांति फैलाऊँ

और By God 400 सीट जीत जाऊँ

मेरे प्लान से डरती है सारी दुनिया

सुषमा जी तो कहती हैं मुझे बड़ा काइयाँ

पीएम बनना है ज़रूरी मेरे लिया बड़ा

उसके बाद मैं हाथ मारूँगा और तगड़ा

मुझे पीएम तो बनने दो आप एक बार

खोल दूँगा मैं आपके लिए ऐसे ऐसे द्वार

पेट्रोल मैं बेचूंगा सिर्फ दस रुपये लीटर

बिजली के उतरवा दूँगा सारे मीटर

सोना मिलेगा सिर्फ हज़ार रुपये प्रति किलो

और दारू तो भाई will freely flow

मेरे इस ऑफर को तो मित्रों no one can resist

मैं सच कह रहा हूँ I am very pessimist

मैं सब सच कहता हूँ आपकी कसम

मैंने किया नहीं दंगा, ना फोड़ा है बम

मेरी बात सुन कर देखो हँसना नहीं

मैं किसी नशे के बस मे नहीं

मैं तो अभी 63 साल का छोटा बच्चा हूँ

सारी दुनिया मुझे कहती है एक फेंकू

मैंने पिया नहीं है दारू या चरस

आज है भैया बस फेंकू दिवस

http://2.bp.blogspot.com/-na3amvsq8Dc/UJ_yv7w6avI/AAAAAAAAAhA/1iITP1yBRxs/s1600/Logo+-++Blog.jpg

 

SING ALONG ON THE TUNE OF THE ORGINAL SONG BY GOVINDA  IN GAMBLER BELOW 😉

CHECK  OUT THE  POET HERE — http://rantographic.blogspot.in/2013/09/the-fenku-anthem.html

 

Related posts